पीलीभीत -नवजात की मौत डॉक्टर पर लगा लापरवाही का आरोप

पीलीभीत -नवजात की मौत डॉक्टर पर लगा लापरवाही का आरोप

26
0
SHARE

पीलीभीत : जिला महिला अस्पताल में भर्ती नवजात की मौत से परिजन भड़क गए। परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए अस्पताल गेट पर धरना दिया। कोतवाली पुलिस मशक्कत के बाद परिजनों को शांत किया। पीड़ित पिता ने डॉक्टर के खिलाफ नामजद तहरीर दी है। इस बीच शहर विधायक संजय ¨सह गंगवार ने भी अस्पताल पहुंचकर पीड़ित परिजनों से बातचीत की।

थाना न्यूरिया क्षेत्र के ग्राम मेवातपुर निवासी उमेश की पत्नी हेमलता को तीन अक्टूबर को प्रसव पीड़ा हुई थी। जिसके बाद उसको महिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। यहां प्रसव के बाद उसने पुत्र को जन्म दिया। उमेश के मुताबिक पुत्र के जन्म होने के कुछ समय बाद से तबीयत बिगड़ने लगी। जिसके बाद परिवार के लोगों ने डॉक्टर से कहा तो उन्होंने एक इंजेक्शन लगा दिया। इंजेक्शन लगने के बाद फिर तबीयत बिगड़ी तो नवजात को मशीन में रख दिया गया। परिजनों का आरोप है कि बार बार कहने के बाद भी डॉक्टर बच्चे को रिलीव नहीं कर रहे थे। डॉक्टर बच्चे को जिला महिला अस्पताल से सीधे लखनऊ मेडिकल कॉलेज ले जाने का दबाव बना रहे थे। इसी बात पर सात अक्टूबर को भी परिजनों की डॉक्टरों से नोंकझोंक हुई थी। बुधवार सुबह परिजन बच्चे को रिलीव करवाकर दूसरे अस्पताल में ले जाने के लिए एंबुलेंस भी ले आए। इसके बाद भी उसको रिलीव नहीं दिया गया। थोड़ी देर बाद डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। इस पर परिजन आक्रोशित होकर हंगामा करने लगे। कोतवाली पुलिस अस्पताल पहुंच गई। पुलिस ने परिजनों को समझाने का प्रयास किया लेकिन परिजन डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की मांग पर अड़े रहे। इस दौरान सूचना मिलने पर शहर विधायक संजय ¨सह गंगवार भी पहुंच गए। उन्होंने डॉक्टरों से बातचीत कर पीड़ित पक्ष से भी मिले। लगभग दो घंटे बाद पहुंचे इंस्पेक्टर कोतवाली किरन पाल ¨सह को मृतक के पिता उमेश ने तहरीर दी। पुलिस ने शव का पंचनामा भरवाकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। परिजन बोले,बच्चे को जबरन मशीन में रखे रहे

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY